Madhya Pradesh के बाद अब दिल्ली में भी उठी छोटे स्कूल खोलने की मांग


नई दिल्ली, Education: मध्यप्रदेश (Madhya Pradesh) में पहली क्लास से पांचवी क्लास तक के स्कूल (Schools) खोले जाने की घोषणा के बाद अब दिल्ली (Delhi) में भी छोटे स्कूल खोले जाने की मांग (Demand) उठ गई है. नेशनल इंडिपेंडेंट स्कूल अलायंस (NISA) और अफोर्डेबल प्राइवेट स्कूल्स एसोसिएशन (APSA) ने दिल्ली सरकार (Delhi Government) से मांग की है कि अब जितना जल्दी हो सके दिल्ली में भी पहली क्लास से पांचवी क्लास तक के स्कूल खोले (School Reopen) जाएं, ताकि बच्चों, पेरेंट्स (Parents), टीचर्स और स्कूल संचालकों (School Owners) को राहत मिल सके.

NISA और APSA पदाधिकारियों का कहना है कि जब शॉपिंग मॉल, जिम, मार्केट और सिनेमाघर खोल दिए गए हैं, तो स्कूल खोलने में क्या दिक्कत हो रही है? जबकि तमाम स्कूल कोविड प्रोटोकॉल का पूरी तरह से पालन करने को तैयार हैं.

उल्लेखनीय है कि मध्यप्रदेश में 20 सितंबर पहली से पांचवी क्लास तक के स्कूल खोलने की घोषणा कर दी गई है. MP सरकार ने 20 सितंबर से सभी सरकारी और प्राइवेट स्कूल खोलने की मंजूरी दे दी है. मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान की अध्यक्षता में हाल में हुई एक बैठक में यह फैसला किया गया है. इसके तहत 20 सितंबर से सभी क्लासेज के फिर से शुरू करने का फैसला किया गया है.

फैसले के अंतर्गत पहली से पांचवी तक की क्लासेज 50 प्रतिशत बच्चों की क्षमता के साथ संचालित की जाएंगी. इस दौरान कोविड प्रोटोकॉल का पूरी तरह पालन किया जाएगा. वहींं, 8वीं, 10वीं और 12वीं की क्लासेज शत-प्रतिशत संचालित की जाएंगी. जबकि 11वीं के 50 प्रतिशत स्टूडेंट्स को हॉस्टल की सुविधा दी जाएगी. आठवीं क्लास से दसवीं क्लास और बारहवीं क्लास के लिए हॉस्टल 100 प्रतिशत क्षमता के साथ संचालित किए जायेंगे.

NISA के राष्ट्रीय अध्यक्ष डॉ. चंद्रभूषण शर्मा और APSA के प्रेसिडेंट लक्ष्य छाबड़िया ने कहा जब स्कूल खोले जाने को लेकर अन्य राज्यों की सरकारें बड़े फैसले ले सकती हैं, तो दिल्ली सरकार को ही इसमें क्या परेशानी हो रही है. सरकार ने दिल्ली में तमाम मार्केट, शॉपिंग मॉल, सिनेमाघर, और जिम खोल दिए हैं. बच्चे सभी जगह जा रहे हैं. जब बच्चों को वहां कोई दिक्कत नहीं हो रही है तो क्या स्कूलों में ही कोविड का डर है. सरकार की इस सोच और लापरवाही की वजह से बच्चों का मानसिक और शारीरिक नुकसान तो हो ही रहा है, तमाम पेरेंट्स, टीचर्स और स्कूल संचालक भी परेशान हैं. कई छोटे स्कूल तो बंद होने के कगार पर हैं. इसलिए दिल्ली सरकार को अब स्कूल खोल देने चाहिए.

पढ़ें Hindi News ऑनलाइन और देखें Live TV News18 हिंदी की वेबसाइट पर. जानिए देश-विदेश और अपने प्रदेश, बॉलीवुड, खेल जगत, बिज़नेस से जुड़ी News in Hindi.



Source link

Leave a Reply